Jul 012018

menstrualcupindia@gmail.com    वाट्सऐप – +91 70428 72252

मेन्सट्रुअल कप क्या है?

पैड और टैम्पौन के विपरीत, मेन्सट्रुअल कप माहवारी रक्त एकत्र/इकट्ठा करता है। मेन्सट्रुअल कप मेडिकल-ग्रेड सिलिकॉन से बना है जो लंबे समय तक इस्तेमाल कर सकते हैं और ऐलर्जी-मुक्त है।  इसको आप बार-बार लगभग १० साल तक इस्तेमाल कर सकते हैं। मेन्सट्रुअल कप एक बार इस्तेमाल करने के बाद पानी से धो कर फिर लगा सकते हैं और हर अवधि के बाद पानी में उबाल कर फिर इस्तेमाल कर सकते हैं।

अवधि के दौरान महिलाओं के आम भय में शामिल हैं:

  • रिसाव – महिलाएं चिंतित रहती हैं कि उनके पैड / कपड़े रिसाव हो सकते हैं। मेन्सट्रुअल कप, सही ढंग से स्थित होने पर, पूरी तरह से रिसाव-मुक्त होता है।
  • असुविधा – महिलाएं रिपोर्ट करती हैं कि मेन्सट्रुअल कप इतना आरामदायक हैं कि वह कप अंदर रखने के बारे में भूल जाती हैं क्योंकि वे इसे अन्दर महसूस नहीं करती हैं।
  • गंध – कपड़ा या पैड का उपयोग करते समय, रक्त हवा के संपर्क में आता है, जिससे एक गंध आती है। मेन्सट्रुअल कप का उपयोग करते समय, रक्त शरीर के भीतर एकत्र किया जाता है जिससे रक्त हवा के संपर्क में कभी नहीं आता। यही कारण है कि मेन्सट्रुअल कप इस्तेमाल करते समय किसी प्रकार की गंध नहीं आती।
  • जगह का हटना – ज्यादातर महिलाएं जानती हैं कि उनका कपड़ा या पैड स्थिति से हट सकता है या गिर सकता है। जब मेन्सट्रुअल कप का उपयोग किया जा रहा है, तो कप शरीर के अंदर रहता है और जब तक उपयोगकर्ता स्वेच्छता से इसे हटा नहीं देता, तब तक कप बाहर नहीं निकलेगा।
  • लागत – कपड़ा बहुत सस्ता विकल्प हो सकता है, क्योंकि महिलाएं घर पर उपलब्ध विभिन्न प्रकार के कपड़ो का उपयोग कर लेती हैं। महिलाएं प्रत्येक चक्र में अपनी अवधि के दौरान लगभग 70 रुपये पैड पर खर्च करती हैं और यह कई लोगों के लिए बोझ हो सकती है। मेन्सट्रुअल कप की खरीद कुल १० वर्षों के लिए एक बार होती है।
Jul 012018

A Guide to the Menstrual Cups

Send your querries on: menstrualcupindia@gmail.com or   Whatsapp – +91 70428 72252

What is a menstrual cup?

Unlike pads and tampons, the menstrual cup is a menstruation management technique which collects menstrual fluid instead of absorbing it. The menstrual cup is made from medical-grade silicone which is long-lasting and hypoallergenic. Menstrual cups, like tampons, are placed inside the vagina during one’s menstrual cycle to collect menstrual fluid. The contents (menstrual discharge) are then washed out with water, the cup is dried and then it can be reused. Menstrual cups, if sanitized properly, can last for up to 10 years.

Common fears women have during periods while using various methods include:

  • Leakage – Women are concerned that their pads/cloths might leak. A menstrual cup, when positioned correctly, is completely leak-free.
  • Discomfort – Women report that menstrual cups are so comfortable that they forget about having placed a cup inside because they cannot feel it.
  • Odour – When using cloths or pads, the blood comes in contact with the air, which creates a foul smell. When using menstrual cups, the blood is collected inside the body and never comes in contact with the air, which is why there is no odour.
  • Falling out – Most women are conscious that their cloth or pad might get out of position or fall out. When the menstrual cup is being used, the cup remains inside the body, forming a seal, and does not come out until the user willingly removes it.
  • Cost – Cloth can be a very cheap option, since women can use a variety of cloths available at home. In the case of disposable pads, women spend roughly Rs. 70 on their periods in every cycle and this can be a burden for many. The menstrual cup is a one-time investment for a total of 10 years.
Visit Us On FacebookVisit Us On InstagramVisit Us On LinkedinVisit Us On YoutubeVisit Us On Google PlusCheck Our Feed